सीएए, एनआरसी व एनपीआर को लेकर कैप्टन जी.एस राठी के साथ विशेष बातचीत
February 8, 2020 • मोंटू राजा

• कैप्टन जी.एस राठी ने कहा मतदान ही नागरिक की शक्ति है, मतदाताओं से की वोट डालने की अपील।

• कैप्टन जी.एस राठी का कहना है भारत में अनेकता में एकता है, देश में एच.डी.आई पर ध्यान देना आवश्यक है।

देशभर में सीएए, एनआरसी के विरोध में देश के अनेक राज्यों में सैकड़ों , लाखों की तादात में जनता ने विरोध किया, जिसके चलते प्रदर्शनकारियों पर लाठी गोलियां भी चली, साथ ही सरकारी संस्थानों को भी नुकसान पहुंचा।

सीएए, एनआरसी को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों को देशद्रोही व अन्य आरोपों में विलीन किया गया। बीजेपी पार्टी की तरफ से शाहीन बाग में हो रहे प्रोटेस्ट को एक विचार बताया गया व‌ तमाम राजनीति की गई।

लोगों से बात करने पर लोगों ने बताया कि सरकार की तरफ से संवाद नहीं हो रहा है, जिस वजह से लोगों को स्पष्ट नहीं पता चल पा रहा है। एक्ट के बारे में सरकार के नुमाइंदों को लोगों से मिलना चाहिए और लोगों को समझाना चाहिए।

इन सभी मुद्दों पर हमने कैप्टन जी.एस राठी से खास बातचीत की और उनके विचार को जाना कि वह एनआरसी , सीएए और एनपीआर को कैसे देखते हैं। साथ ही देश के विकास के ऊपर उनके विचार जाने।

कैप्टन जी.एस राठी सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों में कार्यरत रहे हैं, और आज भी देश के पिछड़े हुए क्षेत्रों व व्यक्तियों को अग्रसर करने में काम कर रहे हैं। 

कैप्टन जी.एस राठी ने बताया कि लोगों के पास जो भी समस्याएं हैं, वह संवाद की कमी के कारण है। साथ ही विकास के नाम पर जो धांधली बाजी हो रही है, उसके बारे में भी अपने विचार रखें। देश के अंदर ह्यूमन डेवलपमेंट इंडेक्स (एच.डी.आई) के बारे में कोई भी नेता व सरकार बात नहीं करती है।

कैप्टन राठी का मानना है कि जब तक देश के अंदर एचडीआई के ऊपर ध्यान नहीं दिया जाएगा तब तक देश का विकास होना नामुमकिन है, और जो आज के समय में अमीर और अमीर और गरीब और गरीब होता जा रहा है इन दोनों के बीच की खाई और गहरी होती चली जाएगी जो आने वाले समय में देश के लिए घातक है।

कैप्टन राठी ने बताया कि वह जो भी कार्य करते हैं समाज के लिए वह किसी संगठन के साथ या संगठन बनाकर काम नहीं करते वह एक मिशन बनाते हैं और मिशन के अंतर्गत काम करते हैं। क्योंकि आज के समय में जो भी संस्थाएं हैं जो भी एनजीओ है उसमें बहुत बड़े स्तर पर फर्जीवाड़ा देखने को मिल रहा है करप्शन देखने को मिल रहा है।

कैप्टन राठी ने कहा कि पहले जो करप्शन होता था वह इलीगल था अब उसे लीगल तौर पर एक तरह से किया जा रहा है।