ALL Crime Politics Social Education Health
पालतू कबूतर को पाकिस्तानी जासूस समझकर था पकड़ा, अब किया गया रिहा
May 31, 2020 • M Rizwan

पालतू कबूतर को पाकिस्तानी जासूस समझकर था पकड़ा, अब किया गया रिहा

 

30/05/2020 मो रिजवान 

 

कठुआ के हीरानगर सेक्टर में कुछ दिन पहले एक कबतूर को पाकिस्तानी जासूस के रूप में पकड़ा गया था। लेकिन अब इस कबूतर को रिहा कर दिया गया है। दरअसल, पाकिस्तान के एक ग्रामीण ने दावा किया कि यह उसका पालतू कबूतर है। कबूतर से संबंधित यह जानकारी मिलने के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस ने कबूतर को आजाद कर दिया।

कबूतर के मालिक का नाम हबीबुल्ला है। हबीबुल्ला पाकिस्तान के तर वाले गांव बग्‍गा-शकरगढ़ के रहने वाले रहने वाले हैं। पाकिस्तान की वेबसाइट डॉन के अनुसार हबीबुल्ला का कहना है कि इस कबूतर का दूसरा जोड़ा उनके पास है यदि सरकार देखना चाहेगी तो वो उसे दिखाने के लिए तैयार भी हैं।

हबीबुल्ला का कहना है कि वो कबूतर से बहुत प्यार करते हैं। हबीबुल्ला ने बताया कि कबूतर का जोड़ा है और जोड़े का एक कबूतर उड़कर सीमा के पार चला गया. हबीबुल्‍ला ने कहा, यह मेरा कबूतर है और पालतू कबूतर है। यह आतंकवादी नहीं हो सकता है और न ही जासूस है।

जम्मू कश्मीर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी शैलेंद्र मिश्रा ने बताया कि गुरुवार को कबूतर को रिहा कर दिया गया। उन्होंने कहा कि जांच में कबूतर में कुछ भी सशंकित नहीं मिलने के बाद यह कदम उठाया गया। पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार यह कबूतर पिछले रविवार को शाम 7 बजे अंतरराष्ट्रीय सीमा के चड़वाल इलाके में गीता देवी के घर में घुस गया था।

 

गीता देवी ने कबूतर के पैर में एक अंगूठी नोटिस देखी थी। जिसके बाद इस कबूतर को पकड़कर इसे बीएसएफ को सौंप दिया गया था। बीएसएफ ने इस कबूतर को स्थानीय पुलिस को दे दिया था। अधिकारी के अनुसार यह अंतरराष्ट्रीय सीमा काफी संवेदनशील है और यहां घुसपैठ भी सामान्य है।

उन्होंने बताया कि पाकिस्तान की तरफ से संदेश भेजने के लिए कबूतरों का इस्तेमाल होता रहा है, उन्होंने कहा कि आम तौर पर पक्षियों पर संदेह नहीं होता है लेकिन यदि कुछ आसामान्य होता है तो उसे अनदेखा भी नहीं किया जा सकता है।