ALL Crime Politics Social Education Health
नहीं थम रहा कोरोना वायरस का कहर, 24 घंटों में मिले 8171 नए मरीज।
June 2, 2020 • M Rizwan • Health

*नहीं थम रहा कोरोना वायरस का कहर, 24 घंटों में मिले 8171 नए मरीज*

 

02/06/2020 M RIZWAN 

 

नई दिल्ली। देश में अनलॉक-1 की शुरुआत के साथ ही कोरोना वायरस का संक्रमण भी तेज हो गया है। मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने जानकारी देते हुए बताया कि पिछले 24 घंटों के भीतर ही कोरोना वायरस के 8171 नए केस सामने आए हैं, जिसके बाद मरीजों की संख्या बढ़कर 198706 हो गई है। वहीं पिछले 24 घंटों में 204 लोगों की मौत कोरोना वायरस के कारण हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक देश में अभी तक 5,598 लोग कोरोना वायरस के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं।

*कोरोना वायरस के 95,526 मरीज ठीक*

 

हालांकि एक बड़ी राहत की बात ये है कि देशभर के अलग-अलग राज्यों में अभी तक कोरोना वायरस के कुल 95,526 मरीज ठीक हो चुके हैं और फिलहाल एक्टिव केस 97,581 हैं। आपको बता दें कि मोदी सरकार ने 1 जून से देशभर में लॉकडाउन 5 को लागू किया है और इसे अनलॉक-1 का नाम दिया है। अनलॉक-1 में धार्मिक स्थलों समेत मॉल खोले जाने को लेकर भी अहम फैसले लिए गए हैं।

 

*अनलॉक-1 को लेकर नई गाइडलाइंस जारी*

 

वहीं, सोमवार को दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने अनलॉक-1 को लेकर गाइडलाइंस जारी की। केजरीवाल ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर बताया कि दिल्‍ली में पहले दुकानें ऑड-ईवन के आधार पर खोली जा रही थीं, लेकिन अब सभी दुकानें खुल सकती हैं। नई गाइडलाइन के मुताबिक, दिल्ली में सैलून खोले जाएंगे लेकिन स्पा सेंटर फिलहाल बंद रहेंगे। राजधानी में भी गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस के मुताबिक रात को 9 बजे से लेकर सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू रहेगा और इस दौरान केवल बहुत जरूरी काम से ही लोग अपने घरों से बाहर निकल सकेंगे!

 

*एक हफ्ते तक राजधानी के बॉर्डर सील*

 

दिल्ली सरकार ने अनलॉक-1 में सबसे बड़ा फैसला एक हफ्ते तक राजधानी के बॉर्डर सील करने को लेकर लिया है। सीएम केजरीवाल ने कहा कि कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामले को देखते हुए दिल्ली के बॉर्डर को अब अगले एक हफ्ते के लिए सील किया जा रहा है। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली दिल वालों की है। ये बॉर्डर खोल दिए जाते हैं तो देश भर के सभी लोग यहां के हॉस्पिटल में इलाज करवाने आएंगे। दिल्ली के हॉस्पिटल में कुछ टाइम तक सिर्फ दिल्ली के लोगों का इलाज होना चाहिए। इसलिए, एक सप्ताह के लिए ​दिल्ली के बॉर्डर सील करने का फैसला लिया गया है।