ALL Crime Politics Social Education Health
मुम्बई सीरियल ब्लास्ट पुणे सीरियल ब्लास्ट सहित 90 के दशक में 50 से अधिक बम विस्फोटों की साजिश रचने वाला मास्टरमाइंड डॉ० जलिश अंसारी कानपुर से गिरफ्तार*
January 18, 2020 • Shadab Hasan

*कानपुर बिग ब्रेकिंग*

*मुम्बई सीरियल ब्लास्ट पुणे सीरियल ब्लास्ट सहित 90 के दशक में 50 से अधिक बम विस्फोटों की साजिश रचने वाला मास्टरमाइंड डॉ० जलिश अंसारी कानपुर से गिरफ्तार*

उपरोक्त सूचना के आधार पर निर्देशानुसार कार्य कर रही एसटीएफ मुख्यालय  लखनऊ स्थित टीम के पुलिस उपाधीक्षक ,श्री परमेश कुमार शुक्ला को विश्वस्त सूत्रों से डॉ० जलीश अंसारी की मौजूदगी कानपुर नगर में होने की सटीक सूचना प्राप्त हुई उक्त संबंध में एसटीएफ फील्ड इकाई कानपुर के प्रभारी उपाधीक्षक श्री टी०वी० सिंह को अवगत कराया गया जिसपर उपनिरिक्षक *घनश्याम यादव* आरक्षी *अब्दुल कादिर*,राजकुमार,मोहर सिंह एवं आरक्षी चंद्रप्रकाश दुवारा दिनांक 17/1/2020 समय 13 बजे फेथफुल गंज कानपुर नगर से उक्त अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया गया 

*बरामदगी*
47,780 रु नगद
1 मोबाइल फोन 
1 आधारकार्ड 
1 पॉकेट डायरी


*आतंकी डॉक्टर जलील अंसारी मुंबई से पुष्पक एक्सप्रेस ट्रेन से चला और यहां कानपुर में उतर गया, कानपुर में फेथफुलगंज में ऊंची मस्जिद है,जहां पर जाकर उसने वहां के मुतवल्ली के पास अपना सामान व बैग रख दिया, और अगल-बगल टहलने लगा*..
*पूछताछ में बताया कि जब से यह 26 वर्ष बाद पैरोल पर छूट के आया है... उसके बाद पत्नी और बच्चों से अक्सर झगड़े होते रहते थे, जिससे परेशान हो गया था... और घर छोड़ कर निकल गया व बताया कि इसके 30 वर्ष पुराने दोस्त फेथफुलगंज में थे...  दोस्त का नाम अब्दुल रहमान और अब्दुल कयूम था, जिनसे 30 वर्ष पुरानी दोस्ती थी, यहां आकर पता चला कि अब्दुल रहमान की दुर्घटना में मृत्यु हो गई और अब्दुल कयूम यहां शहर में नहीं है, तो यह ऊंची मस्जिद सामान रख दिया व  वही पर नमाज पढ़कर निकला और अगल-बगल के लोगों से बातचीत करते हुए एहसास करने लगा कि जैसे स्थानीय है, और एक लोकल आदमी के छोटे बच्चे की जिसकी उम्र 5 साल लगभग रही होगी अंगुली पकड़ के चलना चालू किया साथ में वह व्यक्ति भी चलने लगा ताकि लगे कि यह लोकल आदमी है... और उनके साथ रेलवे स्टेशन तक गया। रेलवे स्टेशन के बाहर वह व्यक्ति व उसका बच्चा  इसको छोड़ कर चले गए... यह  रेलवे इंक्वायरी में गया व पूछताछ करके निकला... तब उससे पूछताछ की गई कबूल किया कि यह वही आतंकवादी है...और पैरोल तोड़ कर फरार हुआ है.... जेल से ऊब गया था इसीलिए हाजिर नही हो रहा था*