ALL Crime Politics Social Education Health
लॉकडाउन हुआ मदहोश सोशल *डिस्टेंसिंग नशे में झूमी
May 5, 2020 • आशू यादव • Health

*आशू यादव की खास रिपोर्ट SUB Bureau Chief Kanpur*✒️✒️
➖➖➖➖➖➖➖➖
     *भ्रष्टाचार और जुर्म के खिलाफ हर पल आपके साथ*
➖➖➖➖➖➖➖➖

                

 

*लॉकडाउन हुआ मदहोश सोशल *डिस्टेंसिंग नशे में झूमी*
*May 5, 2020 • • कानपुर नगर/ कानपुर देहात*

     *कानपुर- लॉकडाउन में छूट मिली तो लोग शराब दुकानों की तरफ दौड़ पड़े हैं. दुकानें खुलने से पहले ही लोगों की लाइन लग गयी है.जिले की कई शराब दुकानो के बाहर तो डेढ़ किलोमीटर लंबी लाइन लग गयी है. शहर के अलग-अलग हिस्सों से आई तस्वीरें देखकर लग रहा है कि शराब कि लिए मारामारी मची है. जिलेभर में शराब की दुकानों पर भारी भीड़ देखी जा रही है।*

*3:0 लॉकडाउन के प्रारम्भ के बीच प्रशासन की मंशा के अनुरूप सोमवार को शहर में देसी और अंग्रेजी शराब ठेके खुले, जिनके बाहर लगी खरीदारों की भीड़ देखते ही बनी। खरीदारों की भीड़ नियंत्रित करने के लिए पुलिस को कई जगह लाठियां पटकनी पड़ीं। 8*

*रविवार देर रात जिला प्रशासन ने एकल व्यवस्था के तहत शहर में देसी, अंग्रेजी शराब ठेके और बीयर शॉप खोले जाने के लिए सुबह 10 से पांच बजे तक के आदेश दिए। इससे सोमवार सुबह आठ बजे से ही खरीदारों की भीड़ ठेकों के बाहर लगनी शुरू हो गई। ठेके खुलने से पहले तक लोग नगर निगम के सोशल डिस्टेंसिंग के लिए बनाए गोलों में खड़े रहे। ठेकों के खुलते ही भीड़ बढ़ने के साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग भूल गए। कई ठेकों के बाहर धक्का-मुक्की और मुंहाचाही भी हुई।*

*आदेश वापस होने के डर से लोगो ने खरीदी पेटियां*

*शराब ठेकों पर कई ऐसे खरीदार भी दिखे, जो पूरी की पूरी पेटी खरीदकर ले जाते नजर आए। लोग बोले आज के हालत देखकर नहीं लगता कल ठेके खुलेंगे। पछताना न पड़े, इसलिए कुछ दिन का कोटा ले लिया है।*

*जिला आबकारी अधिकारी अरविंद मौर्य ने बताया कि शहर में शराब के 812 ठेके हैं। इसमें हाटॅस्पॉट दायरे में आनेवाले 64 ठेके नहीं खुले। सभी ठेकेदारों को पहले ही इसके दिशा-निर्देश दे दिए गए थे। बता दें कि सरकार की तरफ से जारी गाइडलाइन के मुताबिक सभी ज़ोन में शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक शराब की दुकानें खोली जा सकेंगी. इसमें सोशल डिस्टेंसिंग के नियम को मानना दुकानदार के लिए आवश्यक होगा. सिर्फ कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर शराब की दुकानें खोली जा सकेंगी।*