ALL Crime Politics Social Education Health
कोरोना वायरस का कहर, 24 घंटों के भीतर 9987 नए केस और 331 लोगों की मौत।
June 9, 2020 • M Rizwan • Health

*कोरोना वायरस का कहर, 24 घंटों के भीतर 9987 नए केस और 331 लोगों की मौत*

 

09/06/2020 M RIZWAN 

 

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का संक्रमण अब देश में भयावह रूप से फैलता हुआ नजर आ रहा है। मंगलवार को जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटों के भीतर कोरोना वायरस के कारण 331 लोगों की मौत हुई है, जबकि 9987 नए केस सामने आए हैं। कोरोना वायरस के मरीजों में संक्रमण और मौतों का यह अभी तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है। नए केस मिलने के बाद कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़कर 266598 और मृतकों का आंकड़ा 7466 हो गया है।

 

*अभी तक कुल 129215 मरीज ठीक*

 

कोरोना के आंकड़े जारी करते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने बताया कि देश में अभी तक कुल 129215 मरीज ठीक हो चुके हैं, जिसके बाद इस वायरस के एक्टिव केस 129917 हैं। गौरतलब है कि कोराना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए फिलहाल देश में 15 जून तक के लिए लॉकडाउन का पांचवा चरण लागू है। इस चरण में हालांकि कई तरह की छूट देते हुए इसे अनलॉक-1 का भी नाम दिया गया है। अनलॉक-1 के तहत सोमवार को कुछ राज्यों को छोड़कर देश के सभी राज्यों में धार्मिक स्थल, मॉल्स और रेस्टोरेंट खोले गए।

 

*केजरीवाल को रविवार से बुखार और गले में समस्या*

 

इस बीच सोमवार को खबर आई कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल की तबीयत खराब है। आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने बयान जारी करते हुए बताया कि अरविंद केजरीवाल को रविवार से बुखार और गले में समस्या है। आज अरविंद केजरीवाल का कोरोना वायरस का टेस्ट कराया जाएगा। आपको बता दें कि दिल्ली में भी कोरोना वायरस के मामले लगातार रिकॉर्ड रफ्तार से आगे बढ़ रहे हैं और मरीजों की संख्या 27 हजार से ज्यादा हो गई है।

 

*उपराज्यपाल अनिल बैजल ने केजरीवाल के फैसले को पलटा*

 

इससे पहले रविवार को कोरोना वायरस के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक बड़े फैसले के तहत बताया कि अब दिल्ली के अस्पतालों में केवल दिल्ली के स्थानीय लोगों का ही इलाज होगा। हालांकि केजरीवाल के इस फैसले पर राजनीति गर्मा गई और भाजपा समते कांग्रेस और बसपा भी ने इसका विरोध किया। इसके बाद शाम को दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने केजरीवाल के फैसले को पलट दिया और कहा कि दिल्ली के अस्पतालों में किसी भी राज्य का नागरिक इलाज करा सकता है