ALL Crime Politics Social Education Health
खून से बैनर लिख संविदा सफाई  कर्मचारियों ने प्रधानमंत्री को सुनाई अपनी व्यथा
March 2, 2020 • आशू यादव

*1*   *प्र0नि0 श्री  दघीबल तिवारी थाना रेल बाजार, कानपुर नगर*
<______________________>
*खून से बैनर लिख संविदा सफाई  कर्मचारियों ने प्रधानमंत्री को सुनाई अपनी व्यथा*


_______________________
*ठेकेदारो की प्रताड़ना हमेशा से कर्मचारियों के लियें सरदर्द बना है ठेकेदार कर्मचारी से काम तो समय से करवाता है पर कर्मचारी का पारिश्रमिक देनें में हमेशा से* *आनाकानी करता है आज अखिल भारतीय सफाई मज़दूर संघ,उत्तर प्रदेश के बैनर तले कानपुर छावनी बोर्ड के सफाई कर्मचारियों ने कैंट में अपने खून से प्रधानमंत्री व रक्षा मंत्री के नाम संबोधित बैनर पर हस्ताक्षर किए व कैंट विभाग व ठेकेदारों की प्रताड़ना के विरुद्ध न्याय मांगा।खून से हस्ताक्षर अभियान का* *नेतृत्व कर रहे सपा नेता अभिमन्यु गुप्ता ने सबसे पहले अपना खून निकाला जिसके बाद सैकड़ों की संख्या में सफाई कर्मचारियों ने भी खून निकाला और फिर हस्ताक्षर किये।घोषणा की ये बैनर कल प्रधानमंत्री व रक्षा मंत्री को भेजा जाएगा और छावनी बोर्ड में चल रही ठेकेदारों की घोटाले की पोल खोलेंगे।इससे पहले आज प्रशासन से कई बार  वार्ता भी हुईं जिसका कोई* *नतीजा नहीं लिखा।संघ के अध्यक्ष पप्पू ताराचंद ने बताया की समय से वेतन न मिलने और तमाम कर्मचारियों को नौकरी से हटाए जाने के विरोध में छावनी परिषद कानपुर के 180 से ज़्यादा संविदा सफाई कमर्चारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं।छावनी शाखा अध्यक्ष धर्मेंद्र सेठ ने बताया की छावनी परिषद के अधिकारी व ठेकेदार मिलकर सफाई कर्मचारियों का उत्पीड़न कर रहे हैं।1 महीने का वेतन भी नहीं मिला और दो पालियों में* *काम करने का दबाव दिया जा रहा है।धर्मेंद्र सेठ ने आगे बताया की जब सफाई कर्मचारियों ने नियमानुसार वेतन की मांग की तब से ही अधिकारी व ठेकेदार उत्पीड़न करने लगे।जब तक अफसरों व ठेकेदार पर कार्यवाही नहीं होती तब तक हड़ताल जारी रहेगी।धर्मेंद्र सेठ ने बताया कि लगातार कानपुर में कूड़ा,आवारा जानवरों के खिलाफ अभियान चला रहे। प्रदेश अध्यक्ष पप्पू ताराचंद ,छावनी शाखा अध्यक्ष  धर्मेंद्र सेठ,सपा नेता अभिमन्यु गुप्ता,कांग्रेस नेता राजाराम पाल,मनोज चारसिया, प्रमोद,मुकेश,दुलीचंद,सुधीर, विक्की मास्टर, सोनू मंत्री, सन्नो देवी, मधु, माया, रेखा, रत्ना, आदि थे।*