ALL Crime Politics Social Education Health
अफवाह के चलते मुंबई बांद्रा रेलवे स्टेशन पर उमड़ी हजारों की भीड़।
April 15, 2020 • Montoo Raja • Social

अफवाह के चलते मुंबई बांद्रा रेलवे स्टेशन पर उमड़ी हजारों की भीड़। देशभर में लॉकडाउन के बाद जनता को उम्मीद थी कि 14 अप्रैल 2020 के बाद लॉक डाउन खुल जाएगा, और लोगों को राहत मिलेगी। परंतु देशभर में कोरोनावायरस के मरीजों की संख्या में वृद्धि होती जा रही है जिसके चलते देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉक डाउन को बढ़ाकर 3 मई 2020 तक कर दिया है।

लॉक डाउन का असर गरीबी तबके के लोग व रोजाना मजदूरी वाले लोगों पर पड़ा है। जिसके चलते लाखों लोगों ने अपना रोजगार खो दिया है। और लॉक डाउन की वजह से जिन राज्य में वह हैं उन्हीं राज्य में फंसे हैं। केंद्र सरकार और राज्य सरकारों द्वारा यह आश्वासन दिया जा रहा है कि फंसे लोगों के लिए रहने व खाने की व्यवस्था सरकार द्वारा की जा रही है। परंतु मुंबई बांद्रा में यह देखा गया है कि भूख से तंग आकर लोग अब अपने घर वापस जाना चाहते हैं।

फल स्वरूप 14 अप्रैल 2020 मुंबई बांद्रा में अफवाह उड़ाई गई की 15 अप्रैल 2020 से रेल चालू हो जाएंगी , जिसके चलते लाखों की भीड़ मुंबई बांद्रा स्टेशन पर उमड़ी। जिस को काबू करने के लिए मुंबई पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी व पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा जिसके बाद पुलिस ने वहां उपस्थित लोगों को समझा कर वापस भेजा। और तकरीबन 1000 लोगों को हिरासत में लिया, जिन पर पुलिस ने एफ.आई.आर भी दर्ज की है। जहां महाराष्ट्र के नेता उद्धव ठाकरे का कहना है कि महाराष्ट्र में खाने और रहने का बंदोबस्त सरकार द्वारा किया जा रहा है। वही उमड़ी भीड़ में लोगों का यह कहना है कि उन्हें दो वक्त का खाना तक नहीं मिल पा रहा है। जिसके चलते वह अपने राज्य अपने घर वापस जाना चाहते हैं। कई लोगों ने तो यह तक कह दिया की खाना ना मिलने की वजह से: कोरोना वायरस से नहीं इंसान भूख से मर जाएगा। 

आज देश में कई जगहों पर ऐसे दिल दहला देने वाली चीजें भी सामने आ रही है। जिसमें यह देखने को मिल रहा है की दूसरे राज्यों से कमाने के लिए आए लोगों को खाने और रहने की दिक्कत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। दूसरे राज्यों से आए प्रवासियों ने अपनी नौकरियां रोजगार खो दिया है। और उन्होंने अब उम्मीद छोड़ दी है और बेरोजगारी के आलम से बचने के लिए वह अपने गांव अपने घर वापस जाना चाहते हैं।