ALL Crime Politics Social Education Health
नहीं हो रही दिल्ली के सफाई मज़दूरों की सुनवाई।
September 25, 2019 • Montoo raja


*नहीं हो रही दिल्ली के सफाई मज़दूरों की सुनवाई।

*दिल्ली प्रदेश सफाई मज़दूर यूनियन खटखटा रही है एमसीडी के दरवाज़े।

*ईस्ट दिल्ली के एमसीडी कमिश्नर को दिया नोटिस, अगर दस दिन में नहीं सुनवाई तो सफाई मज़दूर करेंगे हड़ताल।

राजधानी दिल्ली, जहां हिंदुस्तान का दिल दिल्ली कि बात आती है वही लोगो के मन में अपेक्षाएं बढ़ जाती है। एक अलग छवि बनती हैं। उस छवि में साफसफाई आहम हिस्सा है, और वो साफसफाई करते हैं दिल्ली के सफाई मज़दूर। 
वही दिल्ली के सफाई कर्मचारी अपनी परेशानियों की गोहार लगाते हैं, अपने आला अधिकारियों से कभी केंद्रीय से तो कभी राज्य के सरकारी नुमाइंदों से। पर अब तक सिर्फ निराशा ही हाथ लगी है। 
दिल्ली कि एक सफाई मज़दूर यूनियन चुनाव जीत के अपने सफाई कर्मचारियों के हित के लिए काम कर रही है।

 जिसका नाम है दिल्ली प्रदेश सफाई मजदूर यूनियन, इस यूनियन के संगरक्षक श्री जय भगवान चारण और प्रदेश अध्यक्ष श्री संजीत चंदेल हैं। समय समय पर ये यूनियन सफाई मज़दूरों के हित में काम करती रही है। 
 वही दिल्ली प्रदेश सफाई मजदूर यूनियन की कुछ मांगे सरकार से हैं। 
 डी ए, कैशलैस मेडिकल कार्ड, एरियर, सतवा वेतन, और मज़दूरों की पक्के ने बहाली।
 इन मांगों को लेकर 23/09/19 को यूनियन ईस्ट कमिश्नर के पास पहुंची तो सूत्रों में बताया कि कमिश्नर साहिबा कही चली गई है। उनकी जगह एडिशनल कमिश्नर बात करेगे, जिसके बाद इन मांगों पर यूनियन को सिर्फ अस्वाशन मिला। इस मीटिंग में 2000 सफाई मज़दूरों ने हिस्सा लिया। परेशान हुवे सफाई मज़दूरों ने जिसके बाद एमसीडी को 10 दिन का नोटिस देदिया। अगर दस दिन के अंदर सुनवाई नहीं की गई तो दिल्ली के सफाई मज़दूर हड़ताल पर चले जायेंगे और उसकी ज़िम्मेदार सरकार होगी।

22/09/19 दिल्ली के एक सफाई कर्मचारी ने ज़हर खा कर खुड़खुशी की है। जिसने अपने सुसाइड नोट में  एमसीडी अधिकारी को मौत का ज़िम्मेदार बताया है।

आपके बता दें कि ऐसी ही सफाई मज़दूर समस्या हरियाणा में भी चल रही है। वहा भी सफाई मज़दूर सरकार से अपनी मांगो की गोहार लगा रहे हैं।